Family_time_importance

दोस्तों आज मैं आपको फॅमिली को वक़्त देना कितना जरुरी हे, फॅमिली के हर एक व्यक्ति चाहे आपके बच्चे हो या फिर आपके माँ बाप. कितना एहमियत हे इन्हे वक़्त देना ये सारी बातें आज हम आपको बतायंगे लेकिन उससे पहले आपको एक इसी विषय के ऊपर एक कहानी बताता हूँ आप पहले इसे suniye

Ek gaon main ek प्राइमरी स्कूल की टीचर थी | सुबह उसने बच्चो का टेस्ट लिया था और उनकी कॉपिया जाचने के लिए घर ले आई थी | बच्चो की कॉपिया देखते देखते उसके आंसू बहने लगे | उसका पति वही लेटे TV देख रहा था | उसने रोने का कारण पूछा ।

इस कहानी को वीडियो मैं देखने के लिए निचे क्लिक करे

पत्नी मतलब वह टीचर बोली, “सुबह मैंने बच्चो को ‘मेरी सबसे बड़ी ख्वाइश “ इस  विषय पर कुछ पंक्तिया लिखने को कहा था ; एक बच्चे ने इच्छा जाहिर करी है की भगवन उसे टेलीविजन बना दे |

यह सुनकर पतिदेव हंसने लगे |

पत्नी बोली , “आगे तो सुनो बच्चे ने लिखा है यदि मै TV बन जाऊंगा, तो घर में मेरी एक खास जगह होगी और सारा परिवार मेरे इर्द-गिर्द रहेगा | जब मै बोलूँगा, तो सारे लोग मुझे ध्यान से सुनेंगे | मुझे रोका टोका नहीं जायेंगा और नहीं उल्टे सवाल होंगे | जब मै TV बनूंगा, तो पापा ऑफिस से आने के बाद थके होने के बावजूद मेरे साथ बैठेंगे | मम्मी को जब तनाव होगा, तो वे मुझे डाटेंगी नहीं, बल्कि मेरे साथ रहना चाहेंगी | मेरे बड़े भाई-बहनों के बीच मेरे पास रहने के लिए झगडा होगा | यहाँ तक की जब TV बंद रहेंगा, तब भी उसकी अच्छी तरह देखभाल होंगी | और हा, TV के रूप में मै सबको ख़ुशी भी दे सकूँगा | “

यह सब सुनने के बाद पति भी थोड़ा गंभीर होते हुए बोला , ‘हे भगवान ! बेचारा बच्चा …. उसके माँ-बाप तो उस पर जरा भी ध्यान नहीं देते !’ टीचर पत्नी ने आंसूं भरी आँखों से उसकी तरफ देखा और बोली, “जानते हो, यह बच्चा कौन है? ………………………हमारा अपना बच्चा…….. हमारा छोटू |”

Dosto to sochiye, आज की भाग-दौड़ भरी ज़िन्दगी में हमें वैसे ही एक दूसरे के लिए कम वक़्त मिलता है , और अगर हम वो भी सिर्फ टीवी देखने , मोबाइल पर गेम खेलने और फेसबुक से चिपके रहने में गँवा देंगे तो हम कभी अपने रिश्तों की अहमियत और उससे मिलने वाले प्यार को नहीं समझ पायेंगे। अपने परिवार को वक़्त देना बहुत जरुरी हे अपने पापा अपने मम्मी को वक़्त देना उनसे जी भरके बातें करना यह बहुत जरुरी हे. उनकी दिल से बहुत इच्छा होती हे आपसे बात करना लेकिन आपके काम के बीच वो आना नहीं चाहते हे लेकिन दोस्तों क्या हम इतने बड़े ख्वाब देखना चाहते हे, की आप काम करते वक़्त आप अपने माँ को या पापा को दिन का एक घंटा वक़्त भी नहीं दे सकते। कई लोग पढ़ने के लिए या बिज़नेस के लिए बहार रहते हे क्या आपने कभी सोचा हे की आप की माँ आपकी कितनी चिंता कर रही होगी. ek माँ का प्यार और एक बाप की उम्मीद को इस दुनिया का कोई इंसान आजकल पहचानेसे दूर हे क्यूंकि वो लाइफ मैं इतना बिजी हे की उसे १ घंटा वक़्त नहीं मिलता उस माँ का उस बाप का हाल पूछने के लिए. यहाँ तक की thode log toh aise bhi he jinhe अपने बच्चो के जिंदगी मैं क्या चल रहा हे ये पूछने के लिए भी वक़्त नहीं हे इतने बिजी पड़े हे लाइफ मैं. इस दुनिया मैं आते वक़्त आप खली हाथ आयेथे साहब और जाते वक़्त भी ऐसे ही खली हाट जाओगे मैं ये नहीं कह रहा की आप सब छोड़ के बस माँ और बाप की सोचो, लेकिन आप उन्हें एक घंटा तोह जरूर निकल सकते हो और ये जरुरी हे. सोचिये इसके ऊपर जो मैंने बताया और  अगर सब बातें सही लगी हो तोह उठाओ फ़ोन या जाओ उनके पास जिसे तुम चाहते हो और जो तुम्हरे फ़ोन का या आने का इंतज़ार कर रहा हे और देखो उनके चेहरे ki वो ख़ुशी को ख़ुशी उनके दिल की हे ये देख आपके आँखों से पानी आएगा इसे ख़ुशी वाले आँसू कहते हे तोह दोस्तों आपको हमारा ये वीडियो कैसा लगा जरूर बताना और प्लीज इस वीडियो को like जरूर करना और चैनल को सब्सक्राइब जरूर करना थैंक यू

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *